जनसत्ता में..

जनसत्ता में, कुल 21 बार। समय 17 फरवरी 2011 से 04 जुलाई, 2015. जगह वही, समांतर। इसमें एक पोस्ट चौदह फरवरी की 'कैसे कहें' की कोई तस्वीर मेरे पास नहीं है, इसलिए उसे नहीं लगा पाया। पर गिन लिया है। अब इस एक अगस्त दो हज़ार पंद्रह से जनसत्ता में वह 'जगह' अब नहीं है।
जनसत्ता में,
17 फरवरी, 2011
जनसत्ता में,
26 अप्रैल, 2011

जनसत्ता में,
05 सितंबर, 2011
जनसत्ता में,
02 नवंबर, 2011
जनसत्ता में,
02 अप्रैल, 2012
जनसत्ता में,
06 अगस्त, 2012
जनसत्ता में,
14 सितंबर, 2012


22 सितंबर, 2012
चौपाल में, शारदा कुमारी का ख़त
जनसत्ता में,
09 नवंबर, 2012
जनसत्ता में,
17 दिसंबर, 2012
जनसत्ता में,
04 फरवरी, 2013
जनसत्ता में,
11 अप्रैल, 2013
जनसत्ता में,
16 मई, 2013
जनसत्ता में,
18 जून, 2013
जनसत्ता में,
07 अप्रैल, 2014
जनसत्ता में,
20 जून, 2014
जनसत्ता में,
27 अक्टूबर, 2014
जनसत्ता में,
22 जनवरी, 2015
जनसत्ता में,
21 अप्रैल, 2015
जनसत्ता में,
04 जुलाई, 2015

(26.12.2015 @ 11:30 P.M.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आवाज़ें..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...